Saturday, September 25, 2010

घड़ी का कांटा हमेशा चलता है.


घड़ी का कांटा हमेशा चलता है,

दिन बीतता है, शाम होती है,

रात आती है, फिर सुबह होती है,

हम सबको हर समय बदलता है,

घड़ी का कांटा हमेशा चलता है

एक समाज पनपता है, राज करता है,

एक वर्ग दबता है, गिरता है, फिर सम्हलता है,

नव उत्थान आता है, क्रांति का विगुल बजता है,

घड़ी का कांटा हमेशा चलता है

एक विचार जनमता है, फिर बढ़ता है,
वह विचार फिर सबमे बसता है,
आँख देता है, कान देता है, एक नई जुबान देता है,

अधिकार देता है, एक नया सम्मान देता है,

समाज को एक नयी पहचान देता है,

न रुकता है, न थकता है, न थमता है,

घड़ी का कांटा हमेशा चलता है

4 comments:

  1. बहुत खुबसूरत पंक्तिया है ........

    पढ़िए और मुस्कुराइए :-
    क्या आप भी थर्मस इस्तेमाल करते है ?

    ReplyDelete
  2. bahut khoobsurat rachna ... waqt kisi ke liye nahi rukta aur na hi rukta hai badlav...

    ReplyDelete
  3. थैंक्स क्षितिजा..गजेन्द्र जी

    ReplyDelete