Thursday, June 10, 2010

‘चिर प्रश्न’

कुछ प्रश्न जिनका जवाब हम सदियों से ढूंढते आये हैं ........



कौन हूँ मैं? क्यूँ आया हूँ?
इस जग में किसने जाना है.
जीवन क्यूँ है? क्या है इसका अर्थ?
किसने इसे पहचाना है.
कौन लाता है, कौन उठाता है?
कौन हंसाता है, कौन रुलाता है?
कौन बिगाड़ता है और कौन बनाता है?
ये कैसा फ़साना है.
राग, द्वेष और मोह से मुक्त हो कर
जिसने स्वयं को पहचाना है,
इन चिर प्रश्नों का उत्तर
सिर्फ उसी ने जाना है!

11 comments:

  1. राग द्वेष और मोह से कहाँ कौन हो पाया है....तभी तो स्वयं को स्वयं ही छलता जाता है इंसान....अच्छी रचना

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद.
    इसी का प्रयास तो हमारे ऋषि मुनि करते आये हैं और हर धर्म मे इसी की शिक्षा है..हम स्वार्थी इंसान इस मूल बात को छोड, अन्य बातों पार ज्यादा समय व्यतीत करते हैं..खुशी पाने का प्रयास करते हैं और दुखी होते जाते हैं

    ReplyDelete
  3. भाई ऋषि मुनि ने तो जो कहा किया उस पर फिर कभी

    अभी तो बस इतना कि तुक कविता के लिये ज़रूरी नहीं

    ReplyDelete
  4. इस पोस्ट के लिेए साधुवाद

    ReplyDelete
  5. अपने मनोभाअवों को बहुत सुन्दर शब्द दिए हैं।सुन्दर रचना है।बधाई।

    ReplyDelete
  6. बहुत बेहतरीन!

    ReplyDelete
  7. सभी का धन्यवाद..
    अशोक तुम्हारी सलाह पर मैं ध्यान दूंगा

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुन्दर हृदयस्पर्शी कविता

    ReplyDelete
  9. ह्रदय को छू गई आपकी कविता...

    ReplyDelete